यदि आप एक ब्लैक होल के अंदर गीरे तो क्या होगा ? | The Mystery of Black Holes

यदि आप एक ब्लैक होल के अंदर गीरे तो क्या होगा ? | The Mystery of Black Holes

Share (शेयर करे)

ब्लैक होल को हम “ब्लैक” होल क्यूँ कहते हैं? क्या उसका रंग कला होता है? क्या वंहा सिर्फ अँधेरा ही अँधेरा होता है? क्या ब्लैक होल का अस्तित्व सही में हैं? क्या है असल में ब्लैक होल? ऐसे कई प्रश्न आपके मन में ज़रूर आता ही होगा | तो इस आर्टिकल को एक बार पढ़ने के बाद आपको ये सारे प्रश्नों के उत्तर एकदम सीधी और सरल भाषा में मिलने वाली हैं | बिना किसी झिझक के हम ये कह सकतें हैं की ब्लैक होल इस पूरी ब्रह्माण्ड की सबसे अजीब जगहों में से एक है | यह स्पेस में मौजूद एक ऐसी जगह है, जंहा की ग्रेविटी यानि गुरुत्वाकर्सन इतनी ताकतवर होती है की इससे कोई भी चीज़ बच नहीं सकती, यंहा तक की प्रकाश भी नहीं! आपको ये ज़रूर पता होना चाहिए की कोई भी चीज़ एक ब्लैक होल बन सकती है! जी हाँ, आपने सही सुना|  कुछ भी से मेरा मतलब है कुछ भी चीज़!और ये मैं खुद नहीं कह रहा हु, ये गणित द्वारा साबित करा जा चूका है | जिस किसी भी चीज़ की density यानि घनत्व जितनी ज्यादा होगी, उसकी गुरुत्वाकर्सन उतनी ज्यादा होगी | ये ब्लैक होल का भी यही है, इसकी भी ‘घनत्व’ इतनी है, जिसके चलते इसकी ‘गुरुत्वाकर्सन’ भी बहुत है और इसी कारन ये प्रकाश को भी अपनी और खीच लेती है |

 

जैसा की आपको पता ही होगा की प्रकाश यानि लाइट इस दुनिया में सबसे फ़ास्ट यानि सबसे तेज़ गति से ट्रेवल करती है | तो अगर लाइट ही नहीं बच कर निकल सकती हैं इस ब्लैक होल से, तो भला और क्या निकल कर भागेगी इस ब्लैक होल से | आप यह ज़रूर सोच रहे होंगे की कोई भी चीज़ कैसे ब्लैक होल में तब्दील, यानि बदल सकती है ? तो भाई, ये तभी संभव है जब हम किसी भी चीज़ को बहुत, बहुत ही कॉम्प्रेस कर दे, यानि उसे दबा दे | मान लो की अगर हमने इस दुनिया की सबसे ऊँची पहाड़ माउंट एवेरेस्ट को इतना दबाया, इतना दबाया की वो 1 नैनोमीटर का हो गया, तो वो ब्लैक होल में तब्दील हो जाएगा! अगर हम धरती को ही इतना दबाएँ, की वो एक मटर के डेन जितनी आकार की हो जाए तो वो भी एक ब्लैक होल बन जायेगी |

ऐसे बहुत सारे तारें हैं जिनका आकर हमारी धरती से लाख-अरब गुना ज्यादा होती हैं | इससे ये निकल कर आता है की अगर हम उन सभी तारों को इतना दबा दे, इतना दबा दें, की वो हमारी धरती की बराबर जितनी हो जाए, तो वो एक ब्लैक होल में बदल जायेगी | पर आप सोच रहे होंगे की भाई, ऐसा तो संभव नहीं लग रहा है क्यूंकि, एक तारे को दबा कर धरती जितनी कर सकें- ऐसा तो आज तक कोई भी मशीन ही नहीं बना | सबसे पहली बात तो हम उस तारें को ही नहीं पकड़ सकते क्यूंकि वो हमसे कई प्रकाश वर्ष दूर जो है | तो आपकी ये बात बिलकुल सही है किसी भी तारे को पकड़ पाना और उसे धरती जितनी आकार दे पाना, ये तो बहुत मुश्किल है, सायद नामुमकिन , अगर हम ऐसा कर पाए तो, वो तारें एक ब्लैक होल का रूप ले लेगी | तो आपका ये उलझन हम सुलझा देतें हैं | असल में मुझे और आपको दोनों को ही ऐसा कुछ करने की ज़रुरत ही नहीं है क्यूंकि, ऐसा तो पहले से ही हो रहा है इस ब्रह्माण्ड में! जब कोई तारा मर जाता है जिसे हम ‘SUPERNOVA’ कहतें हैं तब वो तारा अपने ही अंदर समा जाता है या फिर कहिये की अंदर ही अंदर ढाते चला जाता हैं और इसके कारन उसका घनत्व बढ़ने लगता है और घनत्व बढ़ता है, तो उसका गुरुत्वाकर्सन भी बढ़ने लगती हैं और घटते-घटते उसका आकार इतना छोटा हो जाता है, की वो ब्लैक होल में बदल जाती है और उससे अब प्रकाश बच कर जा ही नहीं सकती | वो छोटा सा पॉइंट या बिंदु जंहा वो तारा घट कर एक ब्लैक होल का रूप ले लेता है उसे हम ‘SINGULARITY’ कहतें हैं |

ब्लैक होल का वो सीमा जंहा से अब प्रकाश भी बच कर नहीं निकल सकता उसे हम ‘EVENT HORIZON’ कहतें हैं | इसका मतलब की इस सीमा के पहले तो प्रकाश बच कर निकल सकती है पर अगर वो इस सीमा के आगे एक बार पहुँच गयी तब तो उसे कोई नहीं बचा सकता | तब तो वो वंहा से वो बिलकुल भी बच कर नहीं जा सकती | ब्लैक होल से प्रकाश पार कर नहीं निकल सकती है पर इसका मतलब आप ये मत समझना की उस ब्लैक होल के अंदर प्रकाश नहीं होती हैं |

ब्लैक होल से लाइट जब बच कर निकल ही नहीं सकती तो वो आपके आँखों तक भला आएगी कैसे | यही वो कारन है, जिसके वजह से हमे ये ब्लैक दिखती हैं और इसका आकार एक छेद जितनी होती है इसलिए इसका नाम पड़ता है ब्लैक होल | ब्लैक होल समय को भी बहुत बड़ी मात्र में एफेक्ट करता है | जो चीज़ या वस्तु इसके सामने होता है, उनके लिए समय बहुत ही धीमी हो जाती है, उनके मुकाबले जो इनसे दूर हैं |

 

क्या आप जानना चाहते हो की यदि आप एक ब्लैक होल के अंदर गिर जायेंगे तो क्या होगा? अगर आसान भाषा में हम आपको बताएं तो आपकी मृत्यु होगी लेकिन एक बड़ी ही रोचक हालत में | सबसे पहेले आपका सरीर का वो हिस्सा जो उसके करीब होगा जैसा, मान लीजिये की आपका पैर उस ब्लैक होल में सबसे पहेले घुस रहा है तो आपका पैर एक रबर की तरह टनेगा और फट जाएगा, ऐसे होगी मौत | पर डरिये मत! उसके लिए आपको सबसे पहेले ऐसे ब्लैक होल की चक्कर लगनी होगी और ये अभी तो संभव नहीं है क्यूंकि जो सबसे नजदीकी ब्लैक होल है वो हमसे हजारों प्रकाश वार्स दूर है | “CYGNUS_X1 नाम का एक ब्लैक होल है जो की धरती से 6000 प्रकाश वर्ष दूर हैं | और ये इतना दूर है की इसका हमारे धरती पर तो क्या हमारे सौर मंडल पर भी कोई असर नहीं पड़ेगा | तो ये थी कुछ बातें जो आपके ब्लैक होल के प्रति जितनी भी प्रश्न थी उन सबकी उत्तर देती है |

हम आशा करतें हैं की ये आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद हो | शेयर भी करें अपने दोस्तों के साथ |

Share (शेयर जरुर करे)

Create Account



Log In Your Account