अंधविश्वास और उनके पीछे का वैज्ञानिक सच | Superstitions and the Logic Behind Them

अंधविश्वास और उनके पीछे का वैज्ञानिक सच | Superstitions and the Logic Behind Them

Share (शेयर करे)

हमारे भारत देश में अंधविश्वास की कमी नहीं है | पर हर अंधविश्वास को मानने के पीछे कोई न कोई वजह तो होती ही है | आज हम आपको इन्हीं अंधविश्वास से जुड़े कुछ तथ्य और उन्हें मानने के पीछे का तर्क बताएँगे |

तो, सबसे प्रसिद्ध अंधविश्वास जिस पर आपमें से ज्यादातर लोग यकीं करते होंगे वो है – ‘बिल्ली का रास्ता काटना’ | अगर कोई बिल्ली आपके सामने से गुजर रही हो तो, आपको वंही रुक जाना चाहिए, आपको आगे नहीं बढ़ना चाहिए जब तक की कोई अन्य व्यक्ति उस रास्ते को पार नहीं कर लेता | ऐसा इसलिए क्यूंकि, हमे ये लगता है की उस सड़क को पार करने से हम कोई अनर्थ कार्य कर देंगे जो हमे नहीं करनी चाहिए | लोग ये मानते हैं की अगर वो उस सड़क को सबसे पहेले पार कर देंगे तो उनके साथ कोई बुरी घटना घट जायेगी |लेकिन इसके पीछे का असली तर्क कोई नहीं जानता और कोई जानने की कोसिस भी नहीं करता वो बस उसी अंधविश्वास के अनुसार चलता रहता है | इसका असली कारण हम आपको बताते हैं | इसका असल वजह यह है की बात दरअसल ये है न की पुराने ज़माने में न तो आज जितनी वाहन थी और न ही बस वगेरा चली करती थीं | तो उस ज़माने में लोग घोडा गाडी का इस्तेमाल करते थें कंही आने-जाने के लिए उस वक़्त रात में अगर कोई जंगली बिल्ली पार होती थी तो घोड़े डर जाया करते थें क्यूंकि बिल्ली की आँखे रात में चमकती हैं और इसी कारन उन घोड़े गाड़ियों का संतुलन बिगड़ जाता था और बहुत बार तो घोड़े बेकाबू होकर इधर-उधर भागने लग जातें थें जिसके कारन उस गाड़ी में बैठे लोगों को चोट लग जाया करती थीं | समय बदलता गया पर लोगों की मान्यताएं आज भी वंही की वंही अटकी पड़ी हैं | लेकिन अब आपको तो इसके पीछे का असली तर्क यानि लॉजिक समझ आ गया है |

 

 

आपने अक्सर देखा होगा की कई दुकानदार अपने दुकान के मुख्य दरवाजे के ऊपर निम्बू और हरी मिर्च लटका के रखतें हैं | लोग मानते हैं की अलक्ष्मी नामक एक देवी है जो बड़े-बड़े व्यापारियों के घर ख़राब किस्मत लाती है | अलक्ष्मी को तीखीं और खट्टी चीजें बहुत पसंद है और इसी कारण दुकानदार इस निम्बू और मिर्च को एक धागे से बाँध कर बहार दुकान के सामने वाले दरवाजें पर टांग देते हैं ताकि जब भी अलक्ष्मी उनका धंदा चौपट करने आये तो वो बहार ही बहार उस निम्बू और मिर्च को खा कर प्रसन्न होकर लौट जाएँ और इन्हें कोई नुकान न सहना पड़े | यह तो हुई मानने के बात इसकी असली वजह अब हम आपको बताते हैं | असल में जिस धागे से निम्बू और मिर्च को बाँधा जाता है न वह धागा निम्बू से निकलते acid यानि अल्म को सोख लेता है और इससे निकलती गंध के चलते कीड़े, मकोड़े और कीट दुकान के अंदर नहीं आतें | ये एक बहुत ही आसान और सस्ता सा एक घरेलु नुस्खा है जिसके कारन दुकानदार कीड़े और मकोड़े को अपने दुकान से दूर रखतें हैं |

 

भारत में तो अनगिनत देवी-देवताओं की पुजा करते हैं लोग पर एक और चीज़ है जिनकी पुजा हर महिला करती है और वो है पीपल का पेड़ | पर क्या आपने कभी सोचा है की पीपल का ही पेड़ क्यूँ ? यंहा तो बहुत सारें पेड़ हैं लेकिन पीपल ही क्यूँ ऐसा क्या खास बात है जो पीपल को ओर पेड़ से अलग और ख़ास बनाती हैं! आम तोर पर सभी पेड़ photosysthesis यानि की प्रकाश संश्लेषण करता है और वो कार्बन डाइआक्साइड को अंदर लेता है और हमे सुध ऑक्सीजन देता है जिसके कारण हमारे वातावरण में सुध ऑक्सीजन और हवा बिलकुल संतुलन में रहती है |

पर जैसे हीं रात होती है, सभी पेड़ ऑक्सीजन लेते हैं और कार्बन डाइऑक्साइड छोड़तें हैं लेकिन पीपल ही एक मात्र ऐसा पेड़ है जो रात के वक़्त भी हमे सुध ऑक्सीजन देता है | और यही इसे सबसे ज्यादा ऑक्सीजन देने वाला पेड़ भी बनता है | और यही नहीं पीपल के पेड़ से हम कई तरह के आयुर्वेदिक दवाएं भी बनाते हैं | यही सब कारण पीपल के पेड़ को बाकि पेड़ों से अलग और एक ख़ास पेड़ बनता हैं और इसीलिए हम इसकी पूजा करतें हैं |

 

दही और चीनी तो हम सब खातें हैं लेकिन कंही बहार जाने से पहले खाना ये हमारे बड़े हमेसा हमसे कहते हैं | ऐसा माना जाता है की अगर हम कोई भी कितनी भी ज़रूरी काम से बहार जा रहे हों हमे हमेसा एक चम्मच दही और चीनी खा के ही उस काम को करने जाना चाहिए | और ये हम सबने किया भी है जब भी हम अपने परीक्षा देने जाते हैं तो हम सबकी माँ हमे ये खिला के ही भेजती हैं | अब सुनो, जो दही होती है न वो असल में हमारे पेट में कोई भी गड़बड़ी होने से बचाती है और उसे ठंडा रखती है और जो चीनी है वो हमे अच्छी खासी शक्ति देती है उस काम को पूरा करने का और यही वो कारण है जिसके चलते हमारे बड़े हमे हमेसा दही और चीनी खिला के बहार भेजते हैं|

 

हम आशा करतें हैं की ये आर्टिकल पढ़ने के बाद आप इन सब अन्ध्विस्वासों के पीछे का असली कारन जान गए होंगे | अगर पसंद आया तो इसे शेयर ज़रूर करियें |

Share (शेयर जरुर करे)

Create Account



Log In Your Account